Saturday, 11 March 2017

बारिश की वो तीन बूंदे।

याद है तुमको बारिश की वो तीन बूंदे, जिनको मैंने तुम्हें छूने की सज़ा दी थी।

No comments:

Post a Comment

Hello, Please Share Your Thoughts with Us. . .